Hindi Story, Hindi Poem, Hindi Kavita, Hindi Kahani, Hindi Article

मथुरा जी का जगु पंडा (कविता )

 बचपन में बालहंस पत्रिका में पढ़ी थी याद आ गई



मथुरा जी का जगु पंडा ,५५ लड्डू खाता ,
लग जावे जब होड़ तो रबड़ी ८ किलो पी जाता ,
५२ इंच का तोंद का घेरा , ८ इन्च की चोटी,
जिस दिन घर में रोटी खाता ,उस दिन घरवाली रोती .
Labels:
Reactions:

Post a Comment

कृपया अपनी राय दे ,आपके सुझाव हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं |

loading...
[facebook][blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget