Hindi Story, Hindi Poem, Hindi Kavita, Hindi Kahani, Hindi Article

हींग Asafetida ..

प्रतिदिन के भोजन में दाल, कढ़ी व कुछ सब्जियों में हींग का उपयोग करने से भोजन को पचाने में सहायक होती है। कोई भी नशा विशेषतः अफीम का हो तो 2 ग्राम हींग का चूर्ण दही या पानी में मिला कर पिला दीजिये।

हींग --

असाफोटीडा जिसे हम हिंदी में हींग कहते है |हींग कोई फल या फूल नहीं होती ,यह तो पेड़ के तने से निकली हुई गोंद होती है। इसका पेड़ 5 से 9 फीट उंचा होता है। इसके पत्ते 1 से 2 फीट लम्बे होते हैं।

ये हींग बहुत  सारे रोगों में काम आती है आंखों की बीमारी होने पर हींग का सेवन करना चाहिए. । आइये कुछ महत्वपूर्ण उपयोगों के बारे में जान लीजिये-

 प्रतिदिन के भोजन में दाल, कढ़ी व कुछ सब्जियों में हींग का उपयोग करने से भोजन को पचाने में सहायक होती है।

 किसी महिला को अक्सर गर्भपात हो जाता हो तो यही हिंग उसे रोकने में सक्षम होती है।गर्भवती महिला को चक्कर आने पर या दर्द होने पर हींग को घी में सेंक कर तुरंत पानी से निगलवा दीजिये।

पीलिया होने पर हींग को गूलर के सूखे फलों के साथ खाना चाहिए. पीलिया होने पर हींग को पानी में घिसकर आंखों पर लगाने से फायदा होता है

 पेट में दर्द हो या कीड़े हों तो 3-4 चुटकी हींग का पाउडर पानी से खाली पेट निगल लीजिये।

 कोई भी नशा विशेषतः अफीम का हो तो 2 ग्राम हींग का चूर्ण दही या पानी में मिला कर पिला दीजिये।

दांतों की समस्याओं के लिए हींग बहुत फायदेमंद है. दांतों में कीड़ा लग जाने पर रात में सोते वक्त दांतों में हींग दबाकर साएं. ऐसा करने से कीड़े अपने-आप निकल जाएंगे. पहुंचाती है।

हींग का लेप बवासीर, तिल्ली व उदरशोथ में लाभप्रद है। 

 घाव मे कीड़े पड़ जाएँ तो नीम के पत्तो के साथ हींग पीस का घाव में लगाइए ,कीड़े तो मरेंगे ही घाव जल्दी भरेगा।

आयुर्वेद में हींग को काफी गुणकारी माना जाता है बस एक सावधानी रखिये की हींग हमेशा घी में ही तली या भुनी जानी चाहिए 

दाद ,खाज खुजली में हींग को पानी में रगड़ कर लेप कर सकते हैं|

पसली के दर्द में हींग फायदा पहुंचाती है। इसके लिए हींग का गर्म गर्म लेप छाती पर लगाने से लाभ मिलता है।
Reactions:

Post a Comment

बढियां जानकारी...धन्यवाद !

yeh kaha hoti hai, hing konse pradesh me hoti hai

हींग की खुशबू भी कई सब्जियों और दालों का मज़ा बड़ा देती है ... अच्छी जानकारी ..

जानकारी काफ़ी अच्छी है, आंख पर लगाते समय कुछ सावधानी भी आवश्यक है क्योंकि हींग में कुछ अंश में तेज़ाब भी होता है ! दांत में दबाते समय भी सावधानी आवश्यक है क्योंकि हींग मसूढों को अनावश्यक रूप से ढीला कर देती है, जिससे दांत गिर भी सकते हैं !

very useful informations thanks a lot !!!

कृपया अपनी राय दे ,आपके सुझाव हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं |

loading...
[facebook][blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget