Hindi Story, Hindi Poem, Hindi Kavita, Hindi Kahani, Hindi Article

" इंसानियत "

भरोसा तेरे पास था मेरे पास था , बस उसपे विश्वास नही था .. आखिर में इंसान तू था मैं भी थी बस " इंसानियत " न तुझमे बची थी न मुझमे ...!!!!



निडर न तू था न मैं थी,

बस हिम्मत नही थी ....



कायर न तू था न मैं थी ,
बस होसला नही था....



गलत न तू था न मैं थी , 
बस राह गलत थी ....



शब्द तेरे पास थे मेरे पास थे ,
बस बोलने के लिए बोली नही थी ...

सच तुझे पता था सच मुझे पता था ,
बस ईमानदारी नही थी ....

कमजोर न तू था न मैं थी ,
बस आत्म परिचय नही था ....

वक़्त तेरे पास था मेरे पास था ,
बस इक्छा नही थी ...

भरोसा तेरे पास था मेरे पास था ,
बस उसपे विश्वास नही था ..

आखिर में 

इंसान तू था मैं भी थी 
बस " इंसानियत " न तुझमे बची थी न मुझमे ...!!!!
Labels:
Reactions:

Post a Comment

कृपया अपनी राय दे ,आपके सुझाव हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं |

loading...
[facebook][blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget