आपने पैनकेक का नाम तो सुना ही होगा, बस यह समझ लीजिए कि पारम्परिक थालीपीठ  का मॉडर्न वर्जन है पैनकेक. लेकिन आज हम आपको पैनकेक नहीं थालीपीठ की रेसिपी बताने जा रहे हैं. ये उन बच्चों के लिए बहुत ही हेल्दी ब्रेकफास्ट है जो लंच के समय खाने में नखरे दिखाते हैं और सिर्फ फोर्मालिटी के लिए खाना खाते हैं. आप ऐसे बच्चों को थाली पीठ के रुप में फाइबर्स और प्रोटीन से भरपूर ब्रंच करवा दीजिए, फिर भले ही वो लंच के समय थोड़ा बहुत कुछ खाना चाहे तो खिला दीजिए. इससे उन्हें अपनी पसंद का ब्रेकफास्ट भी मिल जाएगा और लंच भी.
सामग्री
थाली पीठ का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप इसे सैंडविच की तरह अलग अलग स्वाद और सामग्री का बना सकते हैं. थाली पीठ बनाने के लिए बेस आप कॉमन रखें, जिसके लिए आप 1/2 कप सूजी, 1/ कप बेसन और 1 बड़ा उबला आलू लेकर 1 कप पानी मिलाकर थोडी देर के लिए रख दीजिए, ताकि सूजी और बेसन अच्छे से गल जाए.
अब आप अपने या बच्चों के पसंद की सब्ज़ियों को बहुत थोड़ी थोड़ी मात्रा में किस के एक बोल में रख लें. जैसे 1 गाजर, 1 शकरकंद, एक टुकड़ा गोभी या ब्रोकली, एक टमाटर, 100 ग्राम लौकी, कद्दू या गिल्की, थोड़ी सी पत्तागोभी. सब्ज़ियां आप अपने हिसाब से कम या ज्यादा कर सकती हैं, सारी सब्ज़ियां एक साथ डालना भी जरूरी नहीं.
मसाले में आप 1 चम्मच हरीमिर्च, अदरक, लहसुन का पेस्ट, एक बारीक कटा प्याज़, हरा धनिया, 1 बड़ा चम्मच कैचअप और आवश्यकता अनुसार नमक, चाट मसाला ले सकते हैं.
विधि
सबसे पहले सूजी बेसन के बेस में सारी सब्ज़ियां और सारे मसाले डालकर एक गाढ़ा घोल तैयार कर लें. ध्यान रहे घोल पकौड़े के घोल से भी कट्ठा होना चाहिए, यदि घोल पतला लग रहा हो तो आप उसमें थोड़े से ब्रेड क्रम्ब्स या सोयाबीन ग्रेन्यूल्स डाल दें. इससे थाली पीठ थोड़ा क्रंची भी हो जाएगा.  
अब एक नॉनस्टिक पैन में या अपने ट्रेडिशनल भारी तवे पर घी या तेल लगाकर, हाथ से ही थोड़ा सा घोल थापकर फैला दें. घोल हाथ पर चिपके न इसके लिए आप हाथ को थोड़ा सा गिला कर लें.
अब इसे ढंककर थोड़ी देर पकने दें. ध्यान रहें इसे आपको बहुत कम आंच पर देर तक पकाना होगा, तभी वह अंदर तक पक सकेगा. अब घी या तेल लगाकर इसे दूसरी ओर से भी ब्राउन होने तक पका लें.
लीजिए तैयार है आपका इंडियन पैनकेक यानी थाली पीठ, इसे चाहे तो हरी चटनी और नीबू के अचार से खाइए या सॉस से.