कौओं एवं उल्लू की कहानी

Advertisemen



कहा जाता है कि एक पहाड़ में एक लम्बे चौड़े पेड़ पर कौओं का घोसला था कि जो दूर से देखने पर काले वृक्ष के पत्तों की भांति प्रतीत होता था. इस लिए कि अधिक संख्या में कौए पत्तों की हरियाली को छिपा लेते थे. पेड़ से कुछ नीचे एक अंधेरी ग़ुफ़ा थी कि जिसमें उल्लू रहा करते थे. वे दिन में ग़ुफ़ा में रहते थे और रात को शिकार के लिए जाते थे. सामूहिक रूप से उल्लूओं के शिकार से कौए भयभीत थे। उन्हें हर रात यह डर सताता था कि कहीं उल्लू हमला नहीं कर दें। अंततः एक रात ऐसा हो गया। उस रात आसमान इतना साफ़ था कि चांद की ऊंचाईयों एवं निचाईयों को देखा जा सरका था। कौए सोए हुए थे। युवा संतरी ख़यालों एवं सपनों में खोया हुआ था और एक डाली पर बैठा झींगुरों की आवाज़ सुन रहा था।

जैसे ही उसने आसमान की ओर देखा उसे काले बादल की एक टुकड़ी दिखायी दी कि जो चल रही थी, उसे आश्चर्य हुआ कि क्या साफ़ मौसम और चांदनी रात में काला एवं सकता है बड़ा बादल हो। बादल की टुकड़ी उसी प्रकार चल रही थी और आगे आ रही थी एक ही क्षण में कौआ भयभीत हो उठा। जो कुछ देख रहा था उसे विश्वास नहीं हो रहा था कि वह काले बादल की टुकड़ी नहीं थी उल्लू थे कि जो उड़ते हुए उनकी ओर आ रहे थे। युवा कौआ आश्यचर्य में पड़ गया उसे कुछ करना चाहिए था जबकि उसकी आवाज़ कांप रही थीवह चिल्लाया, । आ गए उल्लू आ गए। युवा कौए की आवाज़ से कौए नींद से जाग गए, लेकिन अब देर हो चुकी थी. नींद और जागने के प्रारम्भिक क्षणों में ही कई कौए पेड़ से नीचे गिर गए. कौओ के बच्चे डर और भय से कांए कांए कर रहे थे और अपनी माताओं को बुला रहे थे।
दूसरे कौए कि जो नींद से जल्दी उठ गए थे और अधिक समझदार थे उल्लूओं से लड़ रहे थे।


अंततः एक बड़ी संख्या में कौओं की हत्या करके और उन्हें घायल करके उल्लू वहां से चले गए और पीछे मौत और तबाही व बरबादी छोड़ गए। अगले दिन सुबह को कौओं के मुखिया ने कि जो वृद्ध और दुनिया देखे हुए था अपने पांच निकटतम सलाहकारों को बुलाया. उल्लूओं के रात के हमले ने उसे अधिक वृद्ध कर दिया था. टूटी हुई डालियों और ख़ाली घोंसलों की ओर देखते हुए उसने कहा कि अंततः कठोर और निर्दयी उल्लूओं ने हम पर हमला कर दिया। हम में से बहुत से पीड़ित हैं. पड़ों पर देखो कोई ऐसा घोसला नहीं है कि जिसमें कोई घायल या मृत न हो. यह पराजय हम सब के लिए पीड़ादायक है. लेकिन जो महत्वूर्ण बात मुझे अधिक चिंतित कर रही है वह यह है कि कहीं कल रात के हमले से उल्लू और अधिक साहसी न हो जायें और पुनः हम पर हमला न कर दें. वे जब तक हमें यहां से उजाड़ नहीं देंगे मानेंगे नहीं। मैं ने तुम्हें यहां इकट्ठा किया है ताकि हम इस समस्या का समाधान खोज सकें। एक सलाहकार ने कि जिसका कल रात के हमले में पंख घायल हो गया था कहा कि मेरा अनुभव यह है कि अपने पुरखों से मैं ने यह सीखा है कि शक्तिशाली शत्रु के मुक़ाबले में डटे रहना बुद्धिमानी नहीं है. हमें भाग जाना चाहिए अब जबकि हम में से बड़ी संख्या में लोग मारे गए और घायल हो गए हैं भागने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है. हमें यहां से चले जाना चाहिए और उल्लूओं की पहुंच से दूर जीवन व्यतीत करना चाहिए. एक दूसरे सलाहकार ने चिल्लाते हुए उसकी बात काटी, नहीं, भागना हमारी समस्या का समाधान नहीं है। हमें लड़ना चाहिए। मौत, भागने से बेहतर है, अगर मुखिया जी आज्ञा दें तो मैं एक दिन में ही सेना की एक टुकड़ी तैयार कर लूंगा और उल्लूओं से ऐसा बदला लूंगा कि कभी भूलेंगे नहीं।

कुछ सैनिक कौए कि जो वहां थे उसकी बातें सुनकर जोश में आ गए और ज़ोर ज़ोर से कांए कांए करके उसकी बातों की पुष्टि करने लगे। किन्तु बूढ़ा कौआ ख़ामोश था और कोई बात नहीं कर रहा था वह दूसरों के विचार सुनना चाहता था। तीसरे कौए ने कि जो कल रात के हमले से अभी घबराया हुआ था कहा कि लड़ाई उपाय नहीं है हमें चाहिए कि उल्लूओं के बीच एक जासूस भेजें ताकि हमें उनकी नीयत और निर्णय से अवगत कराये. अगर शांति चाहते हैं तो उपहार भेजकर उसका स्वागत करेंगे और अगर पुनः हमला करना चाहते हैं तो उस समय स्वयं को प्रतिरोध को लिए तैयार करेंगे। बूढ़े कौए ने कि जो अबी तक ख़ामोश था चौथे सलाहकार की ओर देखा, उसने कहा यद्यपि मैं इन विचारों में से किसी से भी सहमत नहीं हूं लेकिन फ़िलहाल मुझे कोई उपाय नहीं सूझ रहा है मुझे अधिक सोचने का अवसर दें. इस बीच एक आवाज़ आई, मुखिया जी अगर आपकी अनुमति हो तो मैं अपनी बात रखूं. सब लोग बोलने वाले की ओर देखने लगे. पांचवे सलाहकार की आवाज़ थी कि जो युवा और शक्तिशाली कौआ था।
आवश्य, तुम अपनी विचार दो हम ध्यान से सुन रहे हैं।

मैं इनमें से किसी भी समाधान से सहमत नहीं हूं. मेरे पास एक योजना है।

कहो हम सुन रहे हैं।
यहीं नहीं।
कहां फिर?
एकांत में. मैं केवल आप से बात करना चाहता हूं।
बूढ़े कौए ने उसकी बात स्वीकार कर ली और वे उड़कर दूसरी डाल पर चले गए। अकेले में उस कौए ने कहा, मुखिया जी, अपनी योजना बताने से पहले मैं उल्लूओं से पुरानी शत्रुता का कारण जानना चाहता हूं क्या आप उसका कारण जानते हैं?

बूढ़े कौए ने करुणा से कहा, हां पुत्र अच्छी तरह जानता हूं यह शत्रुता बहुत समय पुरानी है। उस समय से कि जब हम में से कोई इस दुनिया में नहीं आया था. एक दिन विश्वभर के पक्षी एक उल्लू को अपना राजा बनाना चाहते थे. उन्हीं के बीच एक कौआ था।  जब उसने पक्षियों का यह निर्णय सुना तो उन्हें बुरा भला कहने लगा और कहा, किस लिए तुम इन समस्त सुन्दर और अच्छे पक्षियों में से सबसे भद्दे और बदसूरत पक्षी को राजा बनाना चाहते हो? बदसूरत और क्रूर पक्षी हमारा राजा बनने के योग्य नहीं है. इस प्रकार, उल्लू राजा नहीं बन सका और उसने निराशा एवं क्रोध से कहा, कौए तू अपनी हालत पर तरस खा, तूने मेरे हृदय में ऐसा द्वेष बो दिया कि मेरे मरने के बाद भी समाप्त नहीं होगा. जब तक दुनिया, दुनिया है उल्लू और कौए एक दूसरे के शत्रु रहेंगे. बूढ़ा कौआ ख़ामोश हो गया और कुछ ठहरने के बाद बोला, उस दिन के बाद से यह शत्रुता उल्लूओं के एक वंश से दूसरे में हस्तांतरित होती आ रही है। अब कि जब शत्रुता के कारण से अवगत हो गए हो कहो कि तुम्हारे पास क्या योजना है?

युवा कौए ने कहा मेरी योजना आप से शुरू होती है. कौओं के पास पलटने के बाद आदेश दो कि मुझे इतना मारें कि मेरी हालत ख़राब हो जाए और मैं ज़मीन पर गिर पड़ूं उसके बाद सब लोग यहां चले जाना और निकट ही अपने लिए कोई स्थान खोज लेना। बूढ़े कौए ने कहा मैं यह काम क्यों करूं? मैं किस तरह यह आदेश दे सकता हूं कि तुझे हत्या के इरादे से मारें?

पांचवे सलाहकार ने कहा कि मुखिया जी मैं आप से विनती करता हूं कि मेरी बातों पर ध्यान दें. अगर विजयी होना चाहते हो तो जो कुछ मैं ने कहा है बिल्कुल वैसा ही करो. बूढ़े कौए ने कहा अब तुम ऐसा चाहते हो तो फिर मैं पूछताछ नहीं करूंगा, केवल मुझे आशा है कि जो कुछ करना चाहते हो समझ कर करोगे।

दोनों कौओं की सभा में वापस आ गए। बूढ़े कौए ने क्रोधित होकर लाल चेहरा करते हुए ऐसे स्वर में कहा कि जिससे सब कौए आश्चर्यचकित रह गए, नहीं यह संभव नहीं है किस तरह तुमने मुझ से इस तरह की बात करने का साहस किया. उसके बाद आश्चर्य में पड़े हुए कौओं के सामने संतरियों को आदेश दिया कि उसे इतना मारे कि उसकी हालत ख़राब हो जाए. उसके बाद उन्होंने उसे घायल अवस्था में मरने के लिए पेड़ के नीचे डाल दिया. उसके बाद बूढ़े कौए ने दूसरे कौओं की ओर देखते हुए कहा कि हमें यहां से चलना चाहिए. अब यहां रुकना उचित नहीं है. एक घंटे बाद कौए एक एक दल बनाकर उड़ गए और उल्लूओं की पहुंच से दूर चले गए। 
Advertisemen

Disclaimer: Gambar, artikel ataupun video yang ada di web ini terkadang berasal dari berbagai sumber media lain. Hak Cipta sepenuhnya dipegang oleh sumber tersebut. Jika ada masalah terkait hal ini, Anda dapat menghubungi kami disini.
Related Posts
Disqus Comments