Hindi Story, Hindi Poem, Hindi Kavita, Hindi Kahani, Hindi Article

हस्त प्रणालक्षणा विनयोगा मुद्राए भरतनाट्यम (सम्पूर्ण श्लोको के साथ) भाग 1 Hasta Pranalakshana

एक तथा दोनों हस्ता मुद्राओ को यहाँ विस्तृत विश्लेषण के साथ समझाया गया है एक हाथ व दोनों हाथो केढंग को 12 प्रणलक्षणा यानी 12 अलग अलग तरीकों में बांटा गया है। प्रसारण हस्ता - उंगलियों फैला रहे हैं कुञ्चिता हस्ता - उंगलियों जोड़ रहे हैं Asamyuta Hasta - सिंगल हाथ इशारों Samyuta Hasta - डबल हाथ इशारों 28 asamyuta hastas और 24 Samyuta hastas कर रहे हैं। प्रत्येक हस्ता विनियोग नामक एक परिभाषित उपयोग किया है। ये विनियोगस फिर नाट्यशास्त्र में लिखा संस्कृत श्लोकों हैं। असंयुता हस्ता पताका पातकोर्द्धपातका कर्तरीमुखः मयूरकयोर्धचन्द्रश्चा अराला शुकतुण्डकः मुष्टिष्ट शिकारक्याश्चा कपीठा

एक तथा दोनों  हस्ता मुद्राओ को यहाँ विस्तृत विश्लेषण के साथ समझाया गया है  एक हाथ व दोनों हाथो के ढंग को  12 प्रणलक्षणा  यानी 12 अलग अलग तरीकों में बांटा गया है।
प्रसारण  हस्ता  - उंगलियों को फैलाना  हैं
कुञ्चिता  हस्ता  - उंगलियों जोड़ना
रचिता  हस्ता  - उंगलियों आंदोलन करना
पुंचिता  हस्ता  - उंगलियों मुड़ाना या घुमाना या गया या फैलाना
अपवेष्टिता  हस्ता  - उंगलियों नीचे मोड़ते है
प्रेरिता  हस्ता  - उंगलियों वापस तुला या ले जाया गया या फैलाना
उद्वेष्टिता  हस्ता  - नृत्य करते समय ऊपर हाथ पकड़े
व्यावृत्ता  हस्ता  - बगल के पक्षों में उठे हुये हाथ
परिवृत्त  हस्ता  - हाथ (एक namaskara) की तरह पक्षों से एक साथ लाया जाता है
संकेत  हस्ता  - हाथ गर्भित अर्थ संप्रेषित करने के लिए इस्तेमाल किया
चिन्ह  हस्ता  - एक नर्तकी नृत्य करते हुए एक व्यक्ति की शारीरिक उपस्थिति, चेहरा, हथियार, हाथ पैर और शरीर, दूसरों पर उसकी / उसके प्रभाव, उनके व्यवहार के अन्य भागों के स्थानों आदि हाथ की तरह दिखाई दे और अदृश्य हैं, जो बहुत सी चीजें दिखाने की कोशिश करता है चिन्ह कहा जाता है ऐसी बातों को दिखाने के लिए प्रयोग  किया।
पदार्थातीके  - हाथ कुछ शब्दों के अर्थ पुष्टि करने के लिए प्रयोग किया
हाथ इशारों के रूप में बांटा जाता है

Asamyuta Hasta - सिंगल हाथ इशारों
Samyuta Hasta - डबल हाथ इशारों



28 asamyuta hastas और 24 Samyuta hastas कर रहे हैं। प्रत्येक हस्ता  विनियोग मे एक परिभाषित नाम का उपयोग किया है। ये सभी विनियोग को  नाट्यशास्त्र  में संस्कृत श्लोकों मे लिखा गया है।



असंयुता  हस्ता 

पताका पातकोर्द्धपातका  कर्तरीमुखः 
मयूरकयोर्धचन्द्रश्चा  अराला  शुकतुण्डकः 
मुष्टिष्ट  शिकारक्याश्चा  कपीठा 
कटकमुखः  सूची  चन्द्रकला
पद्मकोषम  सर्पशिरस्तता  मृगशीर्ष 
सिंहमुखो  लांगुलासोलापदमकहा  चतुरो 
ब्रमारश्चिवा  हंसस्यो  हंसपक्षकः 
संदंशो  मुकुलश्चिवा  ताम्रचूड़ा 
त्रिशूलकः  अष्टाविंशतिहस्तानाम 
एवं नामानिविक्रमात्

संयुता  हस्ता 

अंजलिश्चा    कपोतश्चा  करकटा  स्वस्तिकस्तथा 
डोलाहस्ता  पुष्पपुटः  उत्संगा  शिवलिंगकाः 
कतकवर्धनाश्चिवा  कर्तरी  स्वतिकास्तता 
शकता  शंख चकरेचा  सम्पुट  पाशा कीलकौ 
मत्स्य कूर्म  वराहश्चा  गरुडोनागबंदकः 
खट्वा  भेरुण्डाकाख्याश्चा  अवहितस्तथैवाचा 
चतुर्विंशतिसंख्यकः  संयुता   कटितकरः 

इनमें से विनियोग (उपयोग) के नीचे वर्णित हैं।
प्रत्येक हस्त मुद्राओ के विभीन्न प्रकार है , जिनका प्रयोग नृत्य के समय भिन्न भिन्न प्रकार से होता है ।

असंयुता  हस्तस - नीचे असंयुता हस्त मुद्राओ के विभिन्न प्रकारो को श्लोक तथा उनका भावार्थ के साथ दिया गया है । जिनका प्रयोग नृत्य के समय प्रयोग मे आते है । 


पताका  हस्ता 

सभी उंगलियों खिंचाव और पताका  हस्ता  दिखाने के लिए कसकर उन्हें एक साथ पकड़।
नाट्यारम्भे  वारिवाहे  फलक वस्तुनीशधने 
नृत्य, बादल, जंगल शुरू करने के लिए, कुछ मना करने के लिए

कुचस्थले  निशान्यांचा  नद्याम्  अमरमण्डले 
वक्ष स्थल , रात आसमान, नदी, आकाश को दिखाने के लिए

तुरगे  खंडन  वायु  शायने  गमनोद्यमे 
घोड़ा, पवन, सो नीचे हड़ताल, चुपचाप जाने के लिए

प्रतापेचा  प्रसादेचa चंद्रिकायम  घनातापे 
महानता से संकेत मिलता है, कुछ, चांदनी, उज्ज्वल सूरज की रोशनी की पेशकश करने के लिए

कवत्तपात्तने  सप्तविभक्त्यर्थे  तरंगके 
एक दरवाजा खोलने के लिए, सात शास्त्र, लहरें

विथिप्रवेशभावपि  समत्वचा  अंगरागके 
एक गली में प्रवेश करने के लिए लोगों के शरीर अभिषेक, समानता दिखाने के लिए

आत्मार्थे  शपथेचापि  टुशनिम्भावनिदर्शने 
चुप्पी को दिखाने के लिए, एक शपथ लेने के लिए, अपने आप को दिखाने के लिए

आशीर्वादक्रियायांचा  नृपश्रेष्ठस्याभावने 
आदर्श राजा आशीर्वाद देने के लिए

तालपात्रेचा  खेत्तेचा  द्रव्यादिस्पर्शने  तथा
ताड़ का पत्ता, ढाल, चीजों को छूने के लिए

तत्रतत्रेतिवचने  सिंधौतु  सुकृतिक्रमे 
सब कुछ इंगित करने के लिए इस तरह के और इस तरह के व्यक्ति, सागर, इंगित करने के लिए ठीक है

सम्भोधने  पुरोगेपी  खडगरूपस्याधारणे 
एक व्यक्ति को संबोधित आगे जा रही करने के लिए, तलवार

मासे  संवत्सरे  वर्षादिने  समार्जने  तथा
महीने, साल, बरसात के मौसम, स्वीप करने के लिए

एवंअर्थेषुयुज्यन्ते  पताकहस्ताभावनाः 
इन पताका  हस्ता  के विभिन्न उपयोगों हैं
त्रिपताका तथा अन्य नृत्य मुद्राओ को जानने केलिए -

Post a Comment

कृपया अपनी राय दे ,आपके सुझाव हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं |

loading...
[facebook][blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget